उत्तर कोरिया ने तीन हफ्तों में छठी बार फिर से दो प्रक्षेप्य मिसाइल दागे, इससे तनाव बढ़ेगा

North Korea launches two projectile missiles for the sixth time in three weeks, this will increase tension
* पिछले महीने भी दो छोटी दूरी की मिसाइलें थीं।

* परीक्षण के नाम पर छोटी दूरी की मिसाइलें दागी गईं
* अमेरिका-उत्तर कोरिया वार्ता के पीछे का कारण आगे नहीं बढ़ पा रहा है।
उत्तर कोरिया ने शुक्रवार देर रात एक बार फिर दो प्रक्षेपास्त्र मिसाइल दागे। समाचार एजेंसी एएफपी ने यह खबर दी है। जानकारी के मुताबिक, उत्तर कोरिया ने तीन हफ्तों के भीतर छठी बार मिसाइल दागी है। उत्तर कोरिया के इस परीक्षण को अमेरिका के सामने अपनी सैन्य ताकत बढ़ाने के रूप में देखा जा रहा है।

बताया जा रहा है कि उत्तर कोरिया के ताजा मामले में इन दोनों मिसाइलों को पूर्वी तट से दागा गया है। हालांकि, अभी तक यह ज्ञात नहीं है कि ये मिसाइल किस तरह की क्षमता वाली थीं। लेकिन यह माना जाता है कि ये कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें हो सकती हैं, जिनका उत्तर कोरिया ने इस साल कई बार परीक्षण किया है। इन परीक्षणों का कारण यह है कि किम जोंग पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि उनका देश यह परीक्षण क्यों कर रहा है।

उत्तर कोरिया और अमेरिकी सेना के संयुक्त युद्धाभ्यास में संतुलन लटकने और अमेरिका की ओर से बार-बार मिल रही धमकियों ने किम जोंग उन की नाराजगी बढ़ा दी है। परमाणु हथियारों के बीच वार्ता के किसी भी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचने के लिए किम जोंग उत्तर कोरिया और अमेरिका से नाराज है।

दोनों देश पिछले एक महीने से इस संबंध में बातचीत कर रहे हैं। किम जोंग उन का इरादा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प कुछ हथियारों को नष्ट करने से पहले अपने देश पर लगाए गए प्रतिबंधों को हटा दें। जबकि उत्तर कोरिया द्वारा ऐसे सभी हथियारों को नष्ट करने के बाद राष्ट्रपति ट्रम्प प्रतिबंध हटाने के बारे में अड़े हैं।

एक अन्य मीडिया रिपोर्ट ने बताया कि दक्षिण कोरिया के संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ (जेसीएस) ने कहा है कि उत्तर कोरिया ने शुक्रवार, 16 अगस्त (भारतीय समय में गुरुवार को देर से) पर नवीनतम मिसाइल परीक्षण किया है। दक्षिण कोरियाई सेना के हवाले से कहा गया कि दोनों मिसाइलों को कांगवॉन प्रांत के तोंगचोन शहर के पूर्वी तट से दागा गया। जिसे जापान के समुद्री क्षेत्र के रूप में भी जाना जाता है। जेसीएस ने कहा कि दक्षिण कोरिया की सेना उत्तर कोरिया के इन परीक्षणों पर नजर रख रही है और हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है।

आपको बता दें कि हाल ही में उत्तर कोरिया ने मिसाइल लॉन्च के बाद किम जोंग उन की निजी निगरानी में एक और नए हथियार का परीक्षण किया था। देश के सरकारी मीडिया ने रविवार को ही यह जानकारी दी।

उत्तर कोरिया ने यह परीक्षण ऐसे समय में किया जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि प्योंगयांग परमाणु निरस्त्रीकरण पर वार्ता फिर से शुरू करना चाहता है। इसके बाद शुक्रवार को उत्तर कोरिया के दो मिसाइल प्रक्षेपास्त्रों की ताजा खबरों ने गोलीबारी की।

बता दें कि उत्तर कोरिया की आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी (KCNA) ने पिछले रविवार को जानकारी देते हुए शनिवार को अपने देश द्वारा परीक्षण किए गए हथियार के बारे में नहीं बताया था। इस संबंध में विदेश मंत्रालय द्वारा एक बयान भी जारी किया गया था। जिसमें उन्होंने इसे पारंपरिक हथियारों को विकसित करने के लिए एक परीक्षण के रूप में वर्णित किया।

इससे पहले, उत्तर कोरिया ने पिछले दो हफ्तों में चार बार मिसाइलें लॉन्च की थीं। उत्तर कोरिया ने ये प्रक्षेपण अमेरिका-दक्षिण कोरिया युद्ध अभ्यास के विरोध में किए।

सियोल में, रक्षा अधिकारियों ने कहा कि हामहांग के पास शनिवार तड़के जिन मिसाइलों का परीक्षण किया गया था, वे दो छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें हैं, जो समुद्र में गिरने से पहले कोरियाई प्रायद्वीप और जापान के बीच 400 किलोमीटर की यात्रा करती हैं।